Monday, October 6, 2014

मुजफ्फरनगर में तीन युवकों की हत्या से तनाव

http://www.livehindustan.com/news/desh/national/article1-Muzaffarnagar-murder-police-Sunder-Surendre-Duty-39-39-454839.html
बेखौफ बदमाशों ने शनिवार देर रात गांव बहादरपुर के जंगल में तीन युवकों की हत्या कर दी। उनकी पेंट खुली होने से अनुमान लगाया जा रहा है पहचान देखकर कत्ल किया गया है। दो युवकों का शव तो देर रात मिल गया था। तीसरी लाश रविवार तड़के मिली। गुस्साए ग्रामीणों ने दूसरे संप्रदाय के लोगों पर हत्या का आरोप लगाकर पानीपत-खटीमा हाईवे जाम कर दिया। अधिकारियों ने मृतकों के परिवार को पांच-पांच लाख रुपये मुआवजा और नौकरी का आश्वासन देकर जाम खुलवाया। हत्या से क्षेत्र में तनाव व्याप्त है।

Sunday, October 5, 2014

बवाल-ए-जान बना मूर्ति विसर्जन

http://navbharattimes.indiatimes.com/metro/lucknow/other-news/create-a-life-idol-immersion-organically/articleshow/44338380.cms
शारदीय नवरात्र की समाप्ति के बाद दुर्गा प्रतिमाओं के विसर्जन के दौरान प्रदेश के अलग-अलग हिस्सों में आगजनी, पथराव और फायरिंग की घटनाओं ने धार्मिक माहौल को सांप्रदायिक बना दिया। कई जगहों पर दो पक्ष आमने-सामने आ गए, तो कई जगहों पर विसर्जन के लिए जा रही भीड़ ने पुलिस पर ही हमला कर दिया। बचाव में पुलिसिया कार्रवाई में लाठीचार्ज और फायरिंग तक करनी पड़ी। पुलिस के इस रवैये के खिलाफ लोगों ने कई जगहों पर आगजनी कर दी।
आजमगढ़ में पुलिस की जीपें फूंकी : आजमगढ़ के बरदह इलाके में पुलिस ने हर साल की तरह नहर के रास्ते से विसर्जन जुलूस का मार्ग तय किया था जबकि आयोजक दूसरे रास्ते से जाना चाहते थे। नया रास्ता मुस्लिम आबादी की ओर से होने के कारण प्रशासन अनुमति नहीं दे रहा था। विवाद ने शनिवार शाम करीब 4 बजे तूल पकड़ लिया। नए रास्ते से प्रतिमा ले जाने पर अड़े लोगों के ट्रैक्टर ट्रॉली पर लदी प्रतिमा को लेकर जबरन आगे बढ़ते ही पुलिस ने लाठियां भांजनी शुरू कर दीं। इससे आक्रोशित लोगों ने बरदह थाने और एक पुलिस जीप को आग के हवाले कर दिया। हालात बिगड़ते देख फोर्स ने पहले लाठीचार्ज और फिर कई चक्र हवा में फायरिंग की। पुलिस कार्रवाई से लोग प्रतिमा वहीं छोड़कर भाग निकले। एसएसपी दिनेश चंद्र दूबे का कहना था कि पूजा आयोजकों को कुछ लोगों ने भड़काकर माहौल बिगाड़ने की कोशिश की। उन्होंने स्थिति नियंत्रित होने का दावा किया।
भदोही में गाड़ियों में लगा दी आग
भदोही में पिछले दिनों शांति समिति की बैठक में तय किया हुआ था कि हाई कोर्ट के आदेशानुसार इस बार दुर्गा प्रतिमाओं का विसर्जन गंगा के बजाय उगापुर(औराई) के पास की नहर में किया जाएगा। शुरुआती दौर में विसर्जन जुलूस निकले तो सब कुछ सामान्य था। अचानक एक जुलूस में शामिल लोग परंपरा के नाम पर प्रतिमा को मीरजापुर के चील्ह घाट ले जाने लगे। फोर्स के रोकने और बलप्रयोग से आक्रोशित लोगों ने पुलिस वैन, रोडवेज बस समेत चार वाहनों को आग के हवाले कर दिया। दर्जनों वाहनों में तोड़फोड़ की गई। हालात लगातार बिगड़ते देख पुलिस ने आंसूगैस के गोले दागे और हवाई फायरिंग की तब स्थिति नियंत्रण में आ सकी। डीएम नरेंद्र शंकर पाण्डेय का कहना है कि जौनपुर जिले से विसर्जन के लिए आई प्रतिमा के जुलूस में शामिल कुछ अराजकतत्वों ने उपद्रव और आगजनी की है। उपद्रव करने वालों को चिन्हित कर कार्रवाई की जाएगी।
गाजीपुर में भी हालात बिगड़े
गाजीपुर में भी प्रतिमा विसर्जन का स्थान बदले जाने के विरोध को लेकर हालात बिगड़े। रात साढ़े आठ बजे से शुरु बवालदेर रात तक चलता रहा। गंगा में प्रतिमा विसर्जन करने पर अड़े लोगों पर फोर्स ने बलप्रयोग किया तो पथराव हो गया। घंटोंगुरिल्ला युद्ध के बीच पुलिस ने कई चक्र अश्रुगैस के गोले दागे और हवाई फायरिंग की। पथराव - लाठीचार्ज में कई लोगों कोचोट आई। पुलिस वाले भी घायल हुए हैं। डीएम चंद्र पाल सिंह व अन्य अधिकारियों के समझाने पर शनिवार को प्रतिमाओंका विसर्जन हुआ। स्टीमर घाट के पास खोदे गए गड्ढे में ही प्रतिमाएं विसर्जित की गईं। तनाव के चलते बाजाद बंद रहा। उधरकासिमाबाद में बकरीद के दिन कुर्बानी के लिए प्रशासन द्वारा नया स्थान निर्धारित किए जाने की खबर से पूजा आयोजकोंने प्रतिमा विसर्जन करने से इंकार कर दिया। पुलिस व प्रशासन के अधिकारी आयोजकों को मनाने में लगे हुए थे।
संत रविदासनगर में रोडवेज बस फूंकी : संत रविदास नगर में गंगा नदी में मूर्ति विसर्जन से रोकने पर उग्र लोगों ने पुलिस परपथराव कर रोडवेज बस और पुलिस की गाड़ी फूंक दी। मामला औराई थानाक्षेत्र के उगापुर नहर के पास का है। शुक्रवार कीशाम जौनपुर से बीस प्रतिमाओं के साथ आए लोगों ने मूर्तियों का विसर्जन गंगा नदी में करने के लिए चील्ह घाट की ओरजाने का प्रयास किया , लेकिन अदालत के आदेश के मद्देनजर पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों ने श्रद्धालुओं को नहरके पास रोक लिया। प्रशासनिक अफसरों का कहना था कि गंगा में मूर्ति विसर्जन पर अदालत ने रोक लगा रखी है इस लिएप्रतिमाओं का विसर्जन नहर में किया जाए। रोके जाने से प्रतिमाओं के साथ आई भीड़ आक्रोशित हो उठी पथराव शुरू करदिया। इतना ही नहीं भीड़ ने पुलिस की एक जीप सहित वहां से गुजर रही रोडवेज बस के यात्रियों को उतार पर उसे आग केहवाले कर दिया। जानकारी पाते ही जिलाधिकारी एसपी के साथ मौके पर पहुंचे और हल्का बल प्रयोग कर भीड़ को खदेड़दिया। बाद में अधिकारियों ने मूर्तियों के साथ आए लोगों को समझा बुझा कर नहर में प्रतिमाओं का विसर्जन करवाया।पुलिस ने इस संबंध में पथराव और आगजनी के आरोप में 26 लोगों को गिरफ्तार किया है।
मीरजापुर में पुलिस पर पथराव : गंगा नदी में विसर्जन करने से रोकने पर मिर्जापुर में भी आक्रोशित भीड़ ने जमकर पथरावकिया , जिसमें कई पुलिस कर्मी जख्मी हो गए। डीजीपी प्रवक्ता ने बताया कि शुक्रवार की शाम मीरजापुर के चील्ह थानाक्षेत्रमें भदोही जिले से करीब 43 दुर्गा प्रतिमाएं गंगा में विसर्जन के लिए लाई गई थीं। अधिकारियों द्वारा अदालत के आदेश काहवाला देकर उन्हें वापस कर दिया गया। वापसी के दौरान आक्रोशित भीड़ ने पथराव कर दिया , जिसमें पीएसी जवानसहित तीन पुलिस कर्मी जख्मी हो गए। अधिकारियों ने समझा - बुझा कर श्रद्धालुओं को शांत करवाया और जगदीशपुर मेंनिर्धारित स्थान पर मूर्तियों का विसर्जन करवा दिया।
मारपीट में 10 घायल : बदसठी थाना क्षेत्र के घनापुर गांव में मां दुर्गा की प्रतिमा विसर्जन के लिए ले जाते समय दो पक्षों मेंमारपीट हुई जिसमें 10 लोग घायल हो गये। आरोप है कि पुलिस ने एक ही पक्ष का मुकदमा दर्ज किया। मूर्ति ले जाने वालेपक्ष से अजीत कुमार , फौजदार , सालिक राम जमुना , राज किशोर , संजय तथा दूसरे पक्ष के महेन्द्र यादव , राम दास ,कृष्ण कुमार घायल हो गये। मूर्ति ले जाने वालों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है जबकि दबंग व्यक्ति पर एनसीआर भीकायम नहीं किया गया।
बाराबंकी में एसओ सस्पेंड : दुर्गा पूजा विर्सजन जुलूस में शामिल लोगों में से किसी ने एसओ जहांगीराबाद शुजाउद्दीन परगुलाल फेंक दिया , जिससे नाराज पुलिसवालों ने लाठीचार्ज कर दिया। विवाद के बाद प्रशासन ने एसओ को निलंबित करदिया। शुक्रवार को जहांगीराबाद थाना के चचेरूवा की दुर्गा पूजा विर्सजन के लिए जा रही थी। आयोजन समिति अध्यक्षरामरूप यादव ने बताया कि जुमा की नमाज होने के कारण रास्ते के नैनामऊ की मस्जिद तक डीजे बजाने से पुलिस ने रोकाथा। इस पर जुलूस आगे निकल गया तो डीजे फिर बजने लगा। इसके बाद एसओ ने लाठीचार्ज कर जैसीराम रावत , कोटीव पूर्व प्रधान उमाकांत यादव की पिटाई कर दी। इससे भीड़ उग्र हो गई और एसओ शुजाउद्दीन की पिटाई कर दी। इस परएसओ ने नैनामऊ के पूर्व प्रधान छंगा के घर में घुसकर जान बचाई। निलंबित एसओ ने बताया कि जुमा की नमाज के दौरानडीजे रोकने से नाराज होकर उन पर जानलेवा हमला किया गया। सूचना के बाद एएसपी डॉ ओपी सिंह व एडीएम पीपीपाल मौके पर पहुंचे और एसओ को निलंबित कर दिया। नैनामऊ में एहितियात के तौर पर पीएसी की तैनाती कर दी गई है।

Saturday, October 4, 2014

घुसपैठ से हिंदू समाज ख़तरे में: भागवत

http://www.bbc.co.uk/hindi/india/2014/10/141003_tenpoint_bhagwat_speech
राष्ट्रीय स्वयंसेवस संघ (आरएसएस) के प्रमुख मोहन भागवत ने शुक्रवार को विजयदशमी के अवसर पर नागपुर के रेशमबाग मैदान में संघ के सालाना कार्यक्रम में स्वयंसेवकों को संबोधित किया.
पहली बार इसे दूरदर्शन पर सीधा प्रसारित किया गया. इस दौरान उन्होंने देश, दुनिया और समाज पर अपनी बात रखी.
आरएसएस प्रमुख भागवत के भाषण की 10 प्रमुख बातें:
असम, बंगाल और बिहार के रास्ते हो रही घुसपैठ से हिंदू समाज के लिए ख़तरे की स्थिति पैदा हो गई है.
समाचार पत्रों और टीवी पर भड़काने वाले विज्ञापनों और ख़बरों पर सरकार को रोक लगानी चाहिए. इसे रोकने के लिए एक निकाय बनाना चाहिए.
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अमरीका यात्रा के दौरान भारतीय मूल के लोगों में उत्साह साफ़ नज़र आ रहा था.
भारत प्रशासित कश्मीर में आई बाढ़ के दौरान पूरा समाज एक हो गया था. केंद्र सरकार ने वर्षों बाद तत्काल कार्रवाई का परिचय दिया.
सही मायने में देश में विकास माना जाएगा जब अंतिम पंक्ति में खड़ा अंतिम व्यक्ति भी विकसित और सुरक्षित हो.
इसरों के मंगलयान परियोजना से जुड़े वैज्ञानिक और एशियाई खेलों में पदक जीतने वाले खिलाड़ियों का अभिनंदन किया और बधाई दी
समाज ने बदलाव लाने की ठानी और अभी हाल में ही संपन्न हुए लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी को (भाजपा) को बहुमत दिया.
मंदिर और पानी के स्थान को पूरे हिंदू समाज के लिए एक बनाना होगा. हिंदू समाज से जात-पात को मिटाना होगा
स्वयंसेवकों को देश के गांव-गांव और गलि-गलि में आरएसएस के विचारों को पहुंचाना होगा.
समाज ने बदलाव लाने की ठानी और अभी हाल में ही संपन्न हुए लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी को (भाजपा) को बहुमत दिया.

Tuesday, September 30, 2014

बीस परिवार फिर हिंदू धर्म में लौटे

http://www.jagran.com/uttar-pradesh/lucknow-city-twenty-familis-back-hindu-11667092.html
लखनऊ। कासगंज में धर्म जागरण मंच शुद्धि सभा तथा महिला आर्य समाज के साए में ग्राम नगला मान सिंह में आयोजित 'घर वापसी' कार्यक्रम में 14 परिवारों ने पुन: हिंदू धर्म में वापसी की। वहीं अलीगढ़ में ईसाई बने छह परिवार फिर हिंदू धर्म में लौट आए। कासगंज में सोमवार सुबह कार्यक्रम स्थल पर हवन-यज्ञ के साथ धार्मिक अनुष्ठान के बीच 14 परिवारों के करीब तीन दर्जन लोगों की हिंदू धर्म में वापसी कराई गई। पांच साल पहले यह ईसाई बन गए थे। इस मौके पर आर्य समाज के सुकांत आर्य ने कहा कि वैदिक धर्म में संसार के सभी मनुष्यों की एक ही जाति होती है। चारों वर्णो से मिलकर ही समाज पूर्ण होता है। किसी एक के भी उपेक्षित होने से समाज छिन्न-भिन्न हो जाता है।
उधर, अलीगढ़ में चार साल पहले ईसाई धर्म अपनाने वाले लोधा क्षेत्र के गांव हरिदासपुर में छह परिवार सोमवार को फिर से हिंदू धर्म में लौट आए। ये सभी वाल्मीकि परिवार हैं। इन ईसाई परिवारों के करीब 52 सदस्यों की हिंदू धर्म में वापसी के लिए धर्म जागरण समिति के प्रांतीय प्रमुख आशाराम के नेतृत्व में हवन किया गया। हिंदू रीति-रिवाज से पूजा पाठ कराया गया। इन परिवारों के सदस्यों ने बताया कि उन्हें मूर्ति पूजा का विरोध करते हुए ईसाई धर्म से जोड़ा गया था।

Sunday, September 28, 2014

रतलाम में दो लोगों की हत्या, कर्फ्यू

http://hindi.webdunia.com/regional-hindi-news/curfew-in-ratlam-114092700083_1.html
रतलाम। शहर में शनिवार को कांग्रेस की महिला पार्षद और इसके बाद तीन युवकों को गोली मारने के उपरांत जिला प्रशासन ने कर्फ्यू लगा दिया। इस दौरान दो युवकों की मौत हो गई, जिनमें से एक बजरंग दल से संबंधित बताया गया है।

Saturday, September 27, 2014

भारतीय नागरिक बन सकते हैं पाकिस्तान से आये हिंदू शरणार्थी

http://hindi.pardaphash.com/news/--767361/767361.html#.VCYkDfmSzNU
नई दिल्ली: भारत सरकार पाकिस्तान से यहां आए हिंदू शरणार्थियों को भारत की नागरिकता देने पर विचार कर रही है। लेकिन सरकार का कहना है कि शरणार्थियों को भारत की नागरिकता देने के बारे में विचार राज्य सरकार के माध्यम से आए आवेदनों के आधार पर ही किया जाएगा। सरकार ने हिंदू शरणार्थियों को भारतीय नागरिकता अधिनियम, 1955 की विभिन्न धाराओं के तहत भारत की नागरिकता प्रदान करने की बात भी कही है। इस बात का खुलासा सूचना का अधिकार (आरटीआई) के तहत हुआ है।

Friday, September 26, 2014

बंगलादेश में पांच दुर्गा पूजा पंडालों में बदमाशों ने तोड़फोड़ की

ttp://www.samaylive.com/international-news-in-hindi/285289/vandalism-in-durga-puja-pandals-in-bangladesh.html
बंगलादेश के किशोरगंज जिले में बृहस्पतिवार को कुछ बदमाशों ने पांच दुर्गा पूजा पंडालों में तोड़फोड़ की और देवी की प्रतिमाओं को क्षतिग्रस्त कर दिया.

वडोदरा में सांप्रदायिक तनाव, दंगाईयों ने की तोड़फोड़ और आगजनी

http://www.patrika.com/news/communal-tension-in-vadodara-police-fire-teargas/1032626
वडोदरा। एक समुदाय विशेष के धार्मिक स्थान के फोटो के साथ छेड़छाड़ करके वाट्सएप्प पर फोटो वायरल करने के कारण शहर के फतेपुरा-हाथीखाना क्षेत्र में गुरूवार शाम को गुटीय संघर्ष हो गया। इस दौरान एक मकान, 3 दुकानों व 20 वाहनों में तोड़फोड़ व आगजनी करने वालों पर पुलिसकर्मियों ने आंसू गैस के 10 गोले दागकर तितर-बितर किया।

Wednesday, September 24, 2014

राक्षसों के मनोरंजन का साधन है गरबा : सूफी इमाम

http://www.punjabkesari.in/news/article-287724
अहमदाबाद: गुजरात के एक सूफी इमाम ने नवरात्रि के दौरान होने वाले गरबा कार्यक्रम को लेकर विवादास्पद बयान दिया है। सूफी इमाम मेहदी हुसैन का कहना है कि गरबा को राक्षसों ने अपने कब्जे में ले लिया है और यह उनके मनोरंजन का साधन है। उन्होंने कहा कि गरबा में साधु और संत नजर नहीं आते, बल्कि इसमें तो लोग भड़काऊ कपड़ों में नाचते नजर आते हैं। इमाम ने कहा कि गरबा आयोजनों में मुस्लिमों की एंट्री बैन करने जैसी बातें करना क्या ठीक है?

गायों के शव मिलने के बाद लोगों ने किया हंगामा

http://navbharattimes.indiatimes.com/state/uttar-pradesh/kanpur/Uproar-after-finding-the-bodies-of-cows-to-people/articleshow/43248372.cms
कानपुर, पुलिस ने बताया कि कानपुर के चौबेपुर में मंगलवार को तनाव फैल गया, जहां कथित तौर पर गायों के कटे हुए शव मिले थे। इसके बाद कुछ संगठनों और ग्रामीणों ने हंगामा किया। गांव में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है।

Tuesday, September 23, 2014

विरप्‍पा मोइली के विवादित बोल: मुसलमानों की पैदाइश है हिंदू शब्‍द

http://hindi.oneindia.in/news/india/hindu-word-invented-by-muslims-veerappa-moily-321487.html
बैंगलोर। मौजूदा राजनीति में हिंदू-मुस्लिम नाम का तड़का जबरदस्‍त लगा हुआ है। पहले 'लव जेहाद' को लेकर उत्‍तर प्रदेश में उप-चुनावों के लिए पिच तैयार की गई तो फिर प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने मुस्लिमों की तारीफ कर खुद पर लगे हिंदूवादी के टैग को थोड़ा हल्‍का कर लिया। अब कर्नाटक के पूर्व मुख्‍यमंत्री और केंद्रीय मंत्री विरप्‍पा मोइली ने इस मामले में एक विवादित बयान देकर हड़कंप मचा दिया है। कर्नाटक की राजधानी बैंगलोर में एक समारोह के दौरान मोइली ने कहा कि हिंदू शब्‍द का इजाद मध्‍ययुगीन काल में मुसलमानों द्वारा किया गया था।

बीएसपी नेता मौर्य के 'हिंदू विरोधी' बयान से मायावती ने पल्ला झाड़ा

http://khabar.ndtv.com/news/india/mayawati-distances-herself-from-swami-prasad-mauryas-comment-669365
लखनऊ: हिंदू देवी-देवताओं को लेकर बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के राष्ट्रीय महासचिव स्वामी प्रसाद मौर्य की ओर से दिए गए विवादास्पद बयान का मामला अब तूल पकड़ता जा रहा है। बसपा प्रमुख मायावती ने एक तरफ जहां मौर्य के बयान से पल्ला झाड़ लिया है, वहीं दूसरी ओर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने मौर्य के खिलाफ कार्रवाई किए जाने की मांग की है।

Monday, September 22, 2014

महाराष्ट्र में पैठ बढ़ा रहा मुस्लिम राष्ट्रीय मंच

http://www.jagran.com/news/national-muslim-rastriya-manch-popular-in-maharastra-11647580.html
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने महाराष्ट्र के मुस्लिमों के बीच अपनी पैठ बढ़ानी शुरू कर दी है। इस काम में लगे संघ के वरिष्ठ प्रचारक इंद्रेश कुमार ने शनिवार को संघ के मुस्लिम संगठन मुस्लिम राष्ट्रीय मंच की एक सभा को संबोधित किया और राज्य के कई जिला संयोजकों के मनोनयन की घोषणा की।

Sunday, September 21, 2014

गौ हत्या के विरूद्ध हिंदू संगठनों का, 24 सितम्बर को रेल रोको आन्दोलन

http://www.punjabkesari.in/news/article-286882
जालंधर: पंजाब के मलेरकोटला में गौ हत्या की वारदातों के विरोध में राज्य के सभी 14 हिंदू संगठनों ने 24 सितम्बर को समूचे पंजाब में दो घंटे तक रेलों का आवागमन रोकने का ऐलान किया है। पंजाब गोसेवा बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष कीमती भगत ने राज्य सरकार और पुलिस पर आरोप लगाया कि वह मलेरकोटला में गौ हत्या के दोषियों के विरूद्ध एक समुदाय विशेष के दबाव के चलते कार्रवाई नहीं कर रही है।

Saturday, September 20, 2014

लव जिहाद: निकाह के लिए दी यातनाएं, दिया मस्जिद की छत से धक्का!

http://www.jagran.com/news/national-victim-of-love-jihad-in-delhi-11641143.html
नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। उस्मानपुर थाना क्षेत्र में हिंदू लड़की के दूसरे समुदाय के युवक से शादी करने का मामला सामने आया है। लड़की ने पुलिस को दिए गए बयान में कहा है कि लड़के ने पहले प्यार के जाल में फंसाया और फिर खुद को हिंदू बताकर शादी कर ली। लड़की मूलरूप से अलीगढ़ की रहने वाली है और लंबे समय से उत्तर-पूर्वी दिल्ली में रह रही है।

Friday, September 19, 2014

धर्मपरिवर्तन करने के बाद महिला का शुद्धिकरण

http://hindi.pardaphash.com/news/--766870/766870.html
देहरादून। उत्तराखंड में एक महिला का अपहरण करने के बाद उसका धर्मांतरण करने का मामला सामने आया है, महिला के पुर्नधर्मांतरण में अपहरणकर्ताओं के साथ तीन पुलिसकर्मी भी मौके पर मौजूद थे। अपहरण के बाद महिला का धर्मपरिवर्तन भी कराया गया था। इस मामले की खबर फ़ैलने के बाद बुधवार को तीनों पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया।

Thursday, September 18, 2014

मिथक=मिथ्या: हिंदू मिथकों को समझने की एक कोशिश

http://aajtak.intoday.in/story/excerpts-from-mithak-mithya-by-devdutt-patnaik-penguin-publication-1-780473.html
नई ज़मीन तलाशती, भारत के सबसे लोकप्रिय मिथकों के जानकार डॉ. देवदत्त पटनायक की किताब 'मिथक=मिथ्या' जीवन और मृत्यु, प्रकृति और संस्कृति, उत्कृष्टता और संभावना के बीच विरोधाभासों के जवाब खोजती है. वे अपनी अनोखी लेखन शैली, दृष्टांतों और चित्रों के जरिए हिंदू कहानियों को प्रस्तुत करते हैं और हिंदू प्रतीकों और रीति-रिवाजों की गुत्थियां सुलझाते हैं. इसके जरिए हम जान सकते हैं कि क्यों कौरव स्वर्ग में पहुंचे और (युधिष्ठिर को छोड़ कर) सभी पांडव नर्क में; सीता का त्याग करने वाले राम क्यों आदर्श राजा समझे गए; रक्त पीने वाली काली दूध देने वाली गौरी का दूसरा रूप कैसे बनीं; और शिव ने ब्रह्म का पांचवां सिर क्यों धड़ से अलग किया.

युवती का करवाया जबरन धर्म परिवर्तन फिर रचाई शादी

http://www.punjabkesari.in/news/article-285721
मुरैना: मध्यप्रदेश के मुरैना जिले में एक हिन्दू युवती का अपहरण कर उसका कथित रूप से जबरदस्ती धर्म परिवर्तन कराने का मामला सामने आया है। सूत्रों के अनुसार पिछले दिनों इस्माइल खां नामक युवक अपने साथी सोमवीर जाटव की मदद से जौरा कस्बे से कथित रूप से एक हिन्दू युवती को बहला फुसलाकर ले गया था और दबाव डालकर उसका धर्म परिवर्तन कराया एवं उसके साथ निकाह कर लिया।

Wednesday, September 17, 2014

धर्म परिवर्तन के मामले में हिंदू युवा वाहिनी में उबाल

http://www.jagran.com/uttar-pradesh/mahoba-11633715.html
महोबा, जागरण संवाददाता : थाना कबरई क्षेत्र के सुरहा गांव में किशोरी का धर्म परिवर्तन कराकर उसके साथ निकाह करने के मामले में हिंदू युवा वाहिनी के कार्यकर्ताओं में खासा उबाल है। साथ ही संगठन ने एलान किया है कि यदि आरोपियों के विरुद्ध ठोस कार्रवाई नहीं होती तो आंदोलन किया जाएगा।

Monday, September 15, 2014

आतंक के काम में लग रहा गाय मांस रैकेट का पैसा: मेनका

http://navbharattimes.indiatimes.com/state/rajasthan/jaipur/funds-from-cow-slaughter-racket-being-pumped-into-terror-maneka-gandhi/articleshow/42487987.cms
केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी ने कहा कि देश में दुधारु पशुओं के मांस के अवैध कारोबार से आया पैसा आतंकवाद के काम में लग रहा है। साथ ही यह किसी धर्म विशेष से जुड़ा नहीं है, बल्कि भारत में अब यह व्यापार बन गया है। उन्होंने कहा कि दुधारु पशुओं के मांस के निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया जाना चाहिए।

मंदिर में लगी मूर्ति खंडित होने से फैला तनाव

http://www.jagran.com/uttar-pradesh/bijnor-11630845.html
चंदक (बिजनौर): मंडावर थाने के ग्राम मानवाला में स्थित मंदिर में मां काली की मूर्ति खडित होने से क्षेत्र में तनाव फैल गया। ग्रामीणों का आरोप है कि दूसरे संप्रदाय की एक युवती ने मंदिर में जो प्रयास वितरित कराया उसे खाने से लोगों की तबीयत बिगड़ गई। उसी युवती पर मूर्ति खंडित करने का भी आरोप लगाया जा रहा है। गांव में तनाव को देखते हुए पुलिस बल तैनात कर दिया गया है।

साक्षी महाराज ने कहा, आतंक की शिक्षा देते हैं मदरसे

http://www.livehindustan.com/news/desh/national/article1-bjp-sakshi-maharaja-terrorism-39-39-451130.html
उत्तर प्रदेश के उन्नाव से सांसद महाराज ने एक समारोह के बाद संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि मदरसों में राष्ट्रीयता की शिक्षा नहीं दी जाती, बल्कि एक भी मदरसे में 15 अगस्त 26 जनवरी को तिरंगा नहीं फहराया जाता। उन्होंने कहा कि मदरसों में आतंकवाद की शिक्षा दी जाती है और हिंदू लड़कियों को फंसाने के लिए अरब देशों से फंडिंग होती है।

Sunday, September 14, 2014

संगरूर, मोगा व अहमदगढ़ में पूर्ण बंद

 http://www.jagran.com/punjab/sangrur-11629191.html
मालेरकोटला में गोवंश के अवशेष मिलने से गुस्साए हिंदू संगठनों के आह्वान पर शनिवार को मारपीट की छिटपुट घटनाओं के बीच संगरूर, मोगा, निहाल सिंह वाला और अहमदगढ़ में मुकम्मल बंद रहा।

खंडवा जेल से भागे 5 सिमी आतंकी बिजनौर में बना रहे थे बम

http://www.patrika.com/news/khandwa-jail-breaker-simi-men-behind-west-ups-bijnor-blast/1029331
इंदौर। शुक्रवार दोपहर को यूपी के बिजनौर के एक घर में हुए विस्फोट की जांच में सामने आया है कि इस घर में एमपी की खंडवा जेल से भागे पांच सिमी आतंकी बम बना रहे थे। इसके बाद से प्रदेश में सुरक्षा एजेंसियां सतर्क हो गई हैं। शुक्रवार को बिजनौर के जाटौन मोहल्ले में एक घर में विस्फोट हो गया था, घर में सात युवक रहते थे जो कि नकली पहचान के साथ रह रहे थे। एक अंग्रेजी अखबार की रिपोर्ट केे मुताबिक घटनास्थल से दो किलोमीटर दूर एक डॉक्टर के क्लिनिक से बरामद सीसीटीवी में सामने आया है कि छह युवक उनके क्लिनिक पर आए थे। इनमें से पांच युवक वे थे जो कि एक अक्टूबर 2013 को मध्यप्रदेश की खंडवा जेल से भाग गए थे। विस्फोट के दौरान इनके एक साथी को मामूली चोट आई थी जिसके बाद बाकी साथी उसे डॉक्टर के क्लिनिक पर लेकर आए थे।

धार्मिक स्थल पर तोडफ़ोड़, बूंदी के नैनवां में कर्फ्यू

http://www.amarujala.com/news/samachar/national/curfew-in-boondi-hindi-news-sy/
धार्मिक स्थल पर मूर्ति से कथित छेड़छाड़ और तोडफ़ोड़ को लेकर बूंदी के नैनवां में दो पक्षों के बीच उपजे तनाव के कारण कफर्यू लगा दिया गया।

Saturday, September 13, 2014

गोरक्षपीठ के पीठाधीश्वर महंत अवैद्यनाथ का निधन

http://www.patrika.com/news/mahant-avaidyanath-passes-away/1029232
गोरखपुर। पूर्व सांसद और रामजन्म भूमि आन्दोलन के अग्रणी नेता रहे गोरक्षपीठ के पीठाधीश्वर महंत अवैद्यनाथ का शुक्रवार रात को निधन हो गया। वह 96 वष्ाü के थे। चार बार सांसद रहे अवैद्यनाथ पिछले कुछ समय से बीमार थे और उन्हें शुक्रवार को ही गुडगांव के मेदांता अस्पताल से एयर एम्बुलेंस से यहां लाया गया था। महंत अवैद्यनाथ पहली बार चौथी लोकसभा के लिए हिन्दू महासभा के टिकट पर गोरखपुर से निर्वाचित हुए थे। इसके बाद वह नौंवी, दसवीं और ग्यारहवीं लोकसभा के लिए भी निर्वाचित हुए।

नाबालिगा हुई लव-जेहाद की शिकार

http://www.punjabkesari.in/news/article-284189
लुधियाना (कुलवंत): अपहरण व दुष्कर्म की शिकार हुई टिब्बा रोड इलाके की नाबालिग हिन्दू लड़की ने आरोप लगाया कि कोलकाता के एक मौलवी और उसे अगवा करने वाले आरोपियों के खिलाफ जबरदस्ती धर्म परिवर्तन कराकर उसकी शादी करवाई तथा हिन्दू धर्म के बारे में गलत टिप्पणियां कर उसे जबरन गौ-मांस खिलाया गया। उसने युवक पर अश्लील फोटो दिखा ब्लैकमेल कर उसके साथ कई बार दुष्कर्म करने का भी आरोप लगाया। मामला जब हाई लाइट हुआ तो जब युवक ने उसे वापस भेजा तो उसे धमकाया कि वह उसके व उसके परिवार के सदस्यों के खिलाफ कोई बयान न दे। अगर वह उनके खिलाफ कोई बयान देगी तो उसे जान से हाथ धोना पड़ सकता है। उक्त नाबालिगा शुक्रवार को सॢकट हाऊस में युवा हिन्दू मंच के पंजाब प्रधान किशन लाल शर्मा और महामंत्री अशोक सरीन के साथ मिल प्रैस कांफ्रैंस में बात कर रही थी। उसका आरोप था कि उसके ऊपर काला जादू भी किया गया तथा वह उनके मोह जाल में फंस गई। इसी कारण वह जब लुधियाना आई तो उसने परिजनों के साथ जाने से इंकार कर दिया था व पुलिस को भी गलत बयानबाजी की ताकि उसके परिवार का कोई नुक्सान न कर दें।

Friday, September 12, 2014

...मिलिए बाइक पर सवार कटार लिए बीजेपी की 'दीदी' से

http://hindi.oneindia.in/news/indore/indore-mla-rides-bike-carrying-dagger-stop-love-jihad-navratri-319643.html
इंदौर। जब मान्यताएं नियम-कानून पर हावी हो जाएं तो चर्चा का विषय बन ही जाया करती हैं। इंदौर से बीजेपी विधायक ऊषा ठाकुर को उनके समर्थक 'दीदी' शायद सही ही कहते हैं। दीदी ऊषा ठाकुर कभी-कभार अपनी पुरानी बाइक कावासाकी पर निकलती हैं पर उनके साथ एक कटार जरूर होता है।

टीला जमालपुरा में गाय को चाकू मारने पर तनाव

भोपाल। टीला जमालपुरा में किसी शरारती तत्व ने एक गाय को चाकू मारकर जख्मी कर दिया जिससे पूरे क्षेत्र में तनाव की स्थिति बन गई। पुलिस ने एहतियात के तौर पर अतिरिक्त पुलिस बल तैनात कर दिया है। - See more at: http://naidunia.jagran.com/madhya-pradesh/bhopal-jmalpura-stress-on-the-cow-stabbing-180607#sthash.L1RqzkFe.dpuf

Thursday, September 11, 2014

उद्धव ने कहा, लव जेहाद में न फंसे हिंदू लड़कियां

http://www.samaylive.com/nation-news-in-hindi/282752/uddhav-thackeray-backs-yogi-adityanath-says-love-jihad-an-international-conspiracy.html
उद्धव ने हिंदू लड़कियों को लव जेहाद में न फंसने की नसीहत दी है.इसके साथ ही उद्धव ने योगी आदित्य नाथ के बयान को सही बताया कि अब कोई जोधा किसी अकबर के पास नहीं जाएगी.

गरबा पंडालों में गैर हिंदू युवकों का प्रवेश वर्जित हो : भाजपा विधायक ऊषा ठाकुर

http://khabar.ndtv.com/news/india/no-entry-to-muslims-in-garba-celebrations-says-bjp-legislator-in-madhya-pradesh-662140
इंदौर: मध्यप्रदेश में सत्तारूढ़ भाजपा की राज्य इकाई की उपाध्यक्ष और पार्टी की स्थानीय विधायक ऊषा ठाकुर ने नवदुर्गोत्सव के दौरान गरबा पंडालों आयोजकों से कहा है कि वे पंडालों में गैर-हिंदू युवकों का प्रवेश वर्जित करें। इस सार्वजनिक अपील के बाद विवाद खड़ा हो गया है।

Wednesday, September 10, 2014

ईसाई धर्म अपना चुके 24 हिंदुओं ने की वापसी

http://www.amarujala.com/news/samachar/national/twenty-four-christian-converted-in-hindu-hindi-news-rk/
जौनपुर में दो साल पहले ईसाई धर्म ग्रहण कर चुके तीन परिवारों के 24 लोगों ने मंगलवार को हिंदू धर्म में वापसी कर ली। त्रिलोचन महादेव स्थित मंदिर पर पुरोहित वेद प्रकाश गिरी ने तुलसी दल और गंगाजल पिलाकर इनका शुद्धीकरण कराया।

विहिप की हिंदू लड़कियों के लिए चेतावनी

http://rajasthanpatrika.patrika.com/news/gujarat-vhp-warns-hindu-girls-against-love-jihad-in-pamphlets/1182413.html
अहमदाबाद। विश्व हिंदू परिषद ने हाल ही में एक पर्चा बांटा है, जिसमें हिंदू लड़कियों को मुस्लिम युवकों के प्रेम जाल में न फंसने की चेतावनी दी गई है।

साम्प्रदायिक तनाव जारी रहा तो यूपी में बीजेपी बनाएगी सरकार: शाह

http://www.samaylive.com/regional-news-in-hindi/uttar-pradesh-news-in-hindi/282177/if-communal-tension-persists-bjp-will-form-govt-in-up-shah.html
बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि उत्तरप्रदेश में अगर साम्प्रदायिक तनाव जारी रहता है तो राज्य में अगली सरकार उनकी पार्टी बनाएगी.

सारे हिंदू नेताओं को हथियार मिलने चाहिएः मुत्तालिक

कोयंबटूर: विवादित हिंदूवादी संगठन श्रीराम सेने के प्रमुख प्रमोद मुत्तालिक चाहते हैं कि भारत सरकार हिंदू नेताओं को हथियारों के लाइसेंस दे। इसके लिए वह सरकार को ज्ञापन भी भेजेंगे। 

खनियांधाना के 10 लोग फिर लौटे हिंदू धर्म में

http://rajasthanpatrika.patrika.com/news/10-people-in-hinduism-then-returned-to-kniandhana/1181341.html
शिवपुरी।खनियांधाना के बुकर्रा व छिरवाहा गांव के कुछ दलित परिवारों का धर्मातरण कर मुस्लिम धर्म अपनाने के मामले का गुरूवार को नाटकीय पटाक्षेप हो गया। हिन्दूवादी संगठनों और दलित समाज के नेताओं की मौजूदगी में मनीराम, तुलाराम, सरदार व अनरत सहित 10 लोगों ने खनियांधाना के टेकरी सरकार मंदिर में विधिवत मंत्रोच्चार के बीच पुन: हिन्दू धर्म अपना लिया है।

Thursday, April 17, 2014

हनुमान मूर्ति तोड़ने पर दो समुदाय के बीच हुआ बवाल

http://www.jagran.com/uttar-pradesh/bulandshahr-11239919.html
औरंगाबाद , बुलंदशहर : गांव चरौरा मुस्तफाबाद में बारातियों द्वारा हनुमान जी की मूर्ति तोड़े जाने पर दो समुदाय के बीच बवाल हो गया। थाना पुलिस ने मौके पर पहुंचकर लाठी फटकार कर भीड़ को खदेड़ा। पुलिस ने आरोपी पक्ष के दो लोगों को हिरासत में लिया है। गांव में तनाव की स्थिति को देखते हुए पुलिस फोर्स तैनात कर दिया गया है।

Tuesday, April 15, 2014

बिहार जा रहे गोवंश को ट्रक समेत पकड़ा

http://www.jagran.com/uttar-pradesh/gonda-cattle-smuggler-held-11235068.html
नवाबगंज, (गोंडा) : बीती रात हिंदू युवा वाहिनी के पदाधिकारियों व पुलिस के प्रयास से गोवंश तस्करी कर विहार प्रदेश ले जा रहे ट्रकों को पकड़ लिया गया। ट्रक पर सवार तस्कर भागने में सफल रहे। जबकि एक आरोपी को पकड़ लिया गया। दोनों ट्रकों से 66 गोवंश बरामद हुए। पुलिस ने गोवंशों को ग्रामीणों के सुपुर्द कर दिया है।

Monday, April 14, 2014

जाति विमर्श के बिखरे सूत्र


http://www.newsview.in/reviews/21848
क्या आप जानते हैं कि भारत की जाति-विषयक समस्या या परिघटना पर कितनी पुस्तकें लिखी जा चुकी हैं? एक अमेरिकी भारतविद् ने 5000 पुस्तकों की सूची बनाई थी, जो भारतीय जातियों से संबंधित हैं । यह तो सन् 1946 तक की सूची है, अर्थात जब पुस्तकों का प्रकाशन तकनीकी दृष्टि से एक लंबा, श्रमसाध्य काम होता था। अनुमान किया जा सकता है कि आज यदि ऐसी सूची कोई बनाए तो वह संख्या क्या होगी। लग सकता है कि हजारों अध्ययन, अवलोकन, विश्लेषण आदि के बाद जाति पर कहने, लिखने के लिए अब क्या बचा होगा? किंतु बात कुछ उलटी ही है। न केवल जाति संबंधी चर्चा यथावत रुचि का विषय है, बल्कि दिनों-दिनों उसमें नए-नए लोग, संस्थाएं और एजेंसियां जुड़ रही हैं। जैसा पहले था, आज भी इनमें तीन चौथाई से अधिक संख्या विदेशियों की है, खासकर अमेरिकी यूरोपीय लेखकों, संस्थाओं की। एक नई बात यह जुड़ी है कि अब जाति संबंधी लेखन और वाचन बौद्धिक, अकादमिक कार्य के साथ-साथ सक्रिय एक्टिविज्म और कूटनीति से भी जुड़ गया है। दलित ‘एडवोकेसी’ और दलित ‘मानवाधिकार’ आज एक बड़े अंतरराष्ट्रीय कारोबार के रूप में स्थापित हो चुका है। यह दूसरी बात है कि इस गंभीर अंतरराष्ट्रीय गतिविधि में स्वयं भारतीय दलित लेखक और पत्रकार पिछली पंक्तियों में ही कहीं पर हैं।
वेंडी डोनीगर ने अपनी विवादित पुस्तक ‘द हिंदूज: एन अल्टरनेटिव हिस्ट्री’ और आमतौर पर अपनी पूरी इंडोलॉजी के संबंध में पूरी ठसक से कहा था कि उनके लिए भारतीय लेखक, विद्वान या आम लोग केवल ‘नेटिव इनफॉर्मर’ भर हो सकते हैं। उन तथ्यों की व्याख्या और निष्कर्ष निकालने का अधिकार हिंदुओं का नहीं, बल्कि वेंडी जैसे विदेशियों का है। ठीक वही स्थिति अंतरराष्ट्रीय दलित-विमर्श और एक्टिविच्म में भारतीय दलितों की है। उन्हें पद, सुविधाएं, विदेश-यात्रा और भाषण देने के निमंत्रण आदि खूब मिलते हैं, लेकिन इस घोषित-अघोषित शर्त पर कि उन्हें एक दी गई ‘लाइन’ को ही दुहराना है अथवा उसकी पुष्टि में ही सब कुछ कहना है। इस स्थिति को बड़ी आसानी से उन तमाम वेबसाइटों पर स्वयं देखा जा सकता है जो ‘दलित-मुक्ति’ के लिए समर्पित हैं। डॉ. अंबेडकर के अधिकांश अनुयायी ही नहीं, बल्कि मायावती, रामविलास पासवान आदि सभी प्रमुख दलित नेता ईसाइयत से जोड़कर अपना कल्याण नहीं देखते हैं। महाराष्ट्र में नव-बौद्ध अंबेडकरवादियों में विपाश्शना जैसी बौद्ध-शिक्षा का आकर्षण बढ़ा है। भारत में दलितों और जाति-संबंधों की व्याख्या करने का काम किनके हाथों में है, यह जानना भी कठिन नहीं।
उदाहरण के लिए हाल में एक प्रमुख ‘बहुजन-दलित-ओबीसी’ विमर्श पत्रिका ने नए साल 2014 का अपना कैलेंडर प्रकाशित किया। इसमें सरस्वतीपूजा, रामनवमी, कृष्णाष्टमी, दुर्गापूजा तथा दीपावली ही नहीं, देश के गणतंत्र दिवस और स्वतंत्रता-दिवस तक को निष्कासित कर दिया है। उसमें 15 अगस्त एक सामान्य, बेरंग दिन है। उसके बदले पूरे कैलेंडर में अनेक ईसाई विभूतियों, त्योहारों और मिशनरियों को स्थान दिया गया है। इस कैलेंडर में स्वामी श्रद्धानंद तक को स्थान नहीं मिला, जो दलितों के लिए उतने ही बड़े कर्मयोगी थे जितने डॉ. अंबेडकर। श्रद्धानंद को भूलकर विलियम कैरी जैसे उग्र ईसाई-मिशनरी की जयंती कैलेंडर में मौजूद है। जाति-विमर्श, दलित-ओबीसी चिंता को ईसाई-धमरंतरण प्रचार तथा दलितों के ‘सशक्तीकरण’ या ‘रक्षा’ के नाम पर अंतरराष्ट्रीय कूटनीतिक मंचों को भारत-विरोधी बनाने की ऐसी खुली निश्चिंतता दिखाती है कि भारतीय राजनेता और बुद्धिजीवी कितने गाफिल या दुर्बल हैं। हमारे वामपंथी लेखकों और कुछ जातिवादी पत्रकारों को सामने मुखौटे की तरह रखकर यह खुला हिंदू-विरोधी, भारत-विरोधी घातक खेल चल रहा है। यदि चिंता की बात यह नहीं तो और क्या है? ऐसे मंच डॉ. अंबेडकर, भगवान बुद्ध या भगत सिंह का उपयोग सिर्फ दिखावे के लिए कर रहे हैं। जैसे-जैसे उनकी ताकत बढ़ती जाएगी वे सबको किनारे करते जाएंगे। यह सब डॉ. अंबेडकर की उस चेतावनी को सटीक दिखाता है जो उन्होंने 1956 में बौद्ध-दीक्षा लेते हुए कही थी। उनके शब्दों में, बौद्ध धर्म भारतीय संस्कृति का अभिन्न अंग है और इसलिए मेरा धमरंतरण भारतीय संस्कृति और इतिहास को क्षति न पहुंचाए, इसकी मैंने सावधानी रखी है। यह एक अत्यंत गंभीर संदेश था, जिसमें स्पष्ट कहा गया कि ईसाइयत या इस्लाम में धमरंतरण भारतीय संस्कृति और इतिहास को चोट पहुंचाता है। आज देश-विदेश में अनेकानेक साधन-संपन्न और राजनीतिक रूप से सक्रिय ईसाई मिशनरी संगठन दलित-विमर्श, दलित-शोध, दलित-एमपावरमेंट आदि में जमकर निवेश कर रहे हैं। उन्होंने अच्छे-अच्छे लेखकों, प्रवक्ताओं को अपने साधन-संपन्न अकादमिक संस्थानों से जोड़कर देश-विदेश में हिंदू-विरोधी प्रचार को जबर्दस्त गति दी है। डॉ. अंबेडकर ने इसी को भारतीय इतिहास और संस्कृति को क्षति पहुंचाना समझा था। राजीव मल्होत्रा की हाल की चर्चित पुस्तक ‘ब्रेकिंग इंडिया..’ में इसके सप्रमाण उदाहरण विस्तार से मिलते हैं। दलितों, वंचितों की पैरोकारी के नाम पर हिंदू धर्म, समाज और भारत-विरोधी कूटनीति खुलकर चलाई जा रही है। धन, सुविधा और पद देकर ईसाई मिशनरियों ने भारत के अनेक वामपंथी और दलित लेखकों, वक्ताओं को नियुक्त कर लिया है ताकि उन्हीं के माध्यम से हिंदू धर्म और भारत को कमजोर किया जा सके।
अभी समय है कि हम जाति-विमर्श का सूत्र अपने हाथों में लें। झूठे और राजनीति-प्रेरित प्रचार का नोटिस लें। अंतरराष्ट्रीय मंचों पर मिशनरियों के अभियान का मुंहतोड़ उत्तर देना जरूरी समझें। अन्यथा श्रद्धानंद की तरह कल स्वयं अंबेडकर को भी गुम कर दिया जाएगा। केवल ‘विकास’ और बिजली-पानी सड़क पर केंद्रित राजनीति और घोषणा पत्रों का यह दुर्भाग्यपूर्ण पक्ष है कि भारतीय समाज, संस्कृति और धर्म, सब कुछ को विदेशियों और सांस्कृतिक आक्रमणकारियों के हाथों तोड़ने-मरोड़ने की खुली छूट दे दी गई है।
[लेखक एस. शंकर, वरिष्ठ स्तंभकार हैं]

Sunday, April 13, 2014

तोसा मैदान पर सियासत शुरू

http://www.jagran.com/news/state-11222777.html
नगर : तोसा मैदान मुद्दे पर अलगाववादियों की सियासत शुरू हो गई है। ऑल पार्टी हुर्रियत कांफ्रेंस उदारवादी गुट ने सरकार द्वारा तोसा मैदान की लीज की अवधि में संभावित वृद्धि की आशंका जताते हुए कहा कि यदि ऐसा किया गया तो इसके घातक परिणाम निकलेंगे। गुट ने मुद्दे को लेकर शनिवार 12 अप्रैल को कश्मीर बंद का आह्वान किया है। साथ ही चेताया कि यदि लीज में बढ़ोतरी की गई तो इसके खिलाफ जन आंदोलन छेड़ा जाएगा।

Saturday, April 12, 2014

पुन्हाना में पुलिस फोर्स तैनात

मतदान के दिन मेवात के पुन्हाना विधानसभा क्षेत्र के अंर्तगत नकनपुर में हुई हिंसा के बाद से कस्बे में तनाव का माहौल है। इलाके में शांति बहाल करने के लिए पुलिस ने फ्लैग मार्च किया। स्थिति का जायजा लेने के लिए रेवाड़ी रेंज के आईजी सत्यप्रकाश रंगा ने दौरा किया। दोनों पक्षों ने एक दूसरे के खिलाफ मामला दर्ज करने के लिए पुलिस को शिकायत दे दी है।
http://dainiktribuneonline.com/2014/04/%E0%A4%AA%E0%A5%81%E0%A4%A8%E0%A5%8D%E0%A4%B9%E0%A4%BE%E0%A4%A8%E0%A4%BE-%E0%A4%AE%E0%A5%87%E0%A4%82-%E0%A4%AA%E0%A5%81%E0%A4%B2%E0%A4%BF%E0%A4%B8-%E0%A4%AB%E0%A5%8B%E0%A4%B0%E0%A5%8D%E0%A4%B8/
 

Friday, April 11, 2014

हिंदुओं को शरण देता एक घोषणापत्र

http://prabhatkhabar.com/news/105675-Hindus-shelter-placard.html
इन महत्वपूर्ण आर्थिक बिंदुओं के साथ-साथ नरेंद्र मोदी सरकार का ध्यान दुनिया भर के सताये हुए, पीड़ित और अत्याचार के शिकार हिंदुओं के प्रति भी होगा. वेबसाइट पर पार्टी के घोषणापत्र को पढ़ने के बाद पाकिस्तान और बांग्लादेश के हिंदुओं में एक बहुत बड़ी राहत की लहर दौड़ गयी है. भारत के इतिहास में पहली बार किसी राजनीतिक पार्टी ने अपने चुनावी घोषणापत्र में यह लिखने का साहस दिखाया है कि भारत दुनिया भर के सताये हुए हिंदुओं का शरणस्थल रहेगा और दुनिया में कहीं भी किसी भी हिंदू पर कोई अत्याचार होगा, तो वह भारत की ओर ही इसे अपना मूल निवास समझते हुए देखेगा. 

Thursday, April 10, 2014

बजरंगबली की प्रतिमा कुएं में फेंकी, बवाल

http://www.jagran.com/jharkhand/hazaribagh-11220657.html
इचाक : अवैध रूप से पत्थर खनन करनेवाले माफिया की मनमानी का मामला प्रकाश में आया। बेतहाशा लाभ की चाहत में माफिया ने आदमी तो आदमी भगवान को भी नहीं बख्शा। ताजा मामला प्रखंड के डुमरौन गांव के मूर्तियां टोला का है जहां पत्थर माफिया के एक दल ने गांव में स्थापित बजरंग बली की प्रतिमा को उखाड़ कर कुएं में फेंक दी। वहीं रामनवमी के दिन भगवान का अनादर देख कर ग्रामीण आक्रोशित हो गए। सैकड़ों ग्रामीणों ने जमकर बवाल काटा है।

Wednesday, April 9, 2014

कानपुर में आज फिर भड़की हिंसा, अघोषित क‌र्फ्यू लगाया गया


http://www.jagran.com/news/national-today-violence-in-kanpur-stone-throwing-11220948.html
कानपुर में रामनवमी की शाम जुलूस को लेकर हुए उपद्रव के बाद आज सुबह तक तनातनी जारी है। सुबह फिर कुछ लोगों ने शहर का माहौल बिगाड़ने की कोशिश की। उपद्रवग्रस्त इलाके सुंदरनगर में सुबह कुछ लोगों ने पथराव किया। रात में एक मंदिर के सामने आपत्तिजनक चीजें फेंकी गई। इससे दोनों पक्षों के लोग एक बार फिर आमने सामने आ गए। दोनो पक्षों के बीच टकराव की स्थिति पैदा होने से पहले पुलिस ने मामले को संभाल लिया है। इन मामलों में पुलिस ने कई उपद्रवियों को हिरासत में लिया हैं। एहतियातन पूरे इलाके में अघोषित क‌र्फ्यू लगा दिया गया है।

Monday, April 7, 2014

अब मुस्लिमों के आसरे मुल्क की सियासत!

http://www.palpalindia.com/2014/04/07/loksabha-election-politics-muslim-nations-shelter-news-hindi-india-57393.html
लोकसभा चुनाव के मतदान का पहला चरण आते-आते विचारधारा, विकास, भ्रष्टाचार जैसे मुद्दे हवा हो गए हैं. वोटों की राजनीति में जातियों के समीकरण को कमजोर देख राष्ट्रीय पार्टियां भी ध्रुवीकरण की राह पर चल दी हैं. आपातकाल के बाद सबसे कठिन चुनावों के मुकाबिल खड़ी कांग्रेस के लिए अल्पसंख्यक वोट संजीवनी बन सकते हैं. तमाम पार्टियां इन वोटों के बिखराव को रोकने के लिए इमाम और उलमा की शरण में हैं.

Sunday, April 6, 2014

नए मिजाज का शहर है, जरा फासले से मिला करो

http://www.jagran.com/uttarpradesh/sidharthnagar-11212668.html
शुक्रवार की शाम ने शोहरतगढ़ के नाम को और बदनाम कर दिया, वह जिसके लिए कुख्यात है। बात सिर्फ इतनी थी कि शोहरतगढ़ कस्बे से धार्मिक श्रद्धालुओं की एक पदयात्रा गुजरनी थी। कस्बे में साप्ताहिक बाजार होने से श्रद्धालुओं ने रास्ता बदल लिया। वह निकल पड़े नगर की जामा मस्जिद की तरफ। यह बात भी सुनने में आ रही हैं कि जुलूस में शामिल कुछ उपद्रवियों ने इस दौरान कुछ नारेबाजी की। परिणाम स्वरूप माह भर पूर्व शांति कमेटी की बैठक में एक-दूसरे के सुख का संकल्प लेने वाले खुद को संभाल नहीं पाये। लाठी व वर्दी के जोर पर उन्हें रिश्तों का पाठ पढ़ाने वाली पुलिस भी लहुलुहान हो गई। थानाध्यक्ष डुमरियागंज को सिर में चार टांके लगे हैं। काफी मशक्कत के बाद हालात काबू में है।

Saturday, April 5, 2014

कोबरापोस्ट का स्टिंग 'ऑपरेशन जन्मभूमि' सवालों के घेरे में

http://www.jagran.com/news/national-cobraposts-operation-janmbhoomi-advani-narasimha-rao-knew-of-plot-11208332.html
नई दिल्ली [जागरण ब्यूरो]। लोकसभा चुनाव के लिए मतदान शुरू होने से चंद दिन पहले अयोध्या में विवादित ढांचा ढहाने के 22 साल पुराने मामले को लेकर सामने आए स्टिंग ऑपरेशन पर सवाल खड़े गए हैं। गड़े मुर्दे उखाड़ने की तर्ज पर कोबरा पोस्ट नामक समाचार वेबसाइट के स्टिंग ऑपरेशन पर भाजपा ने तीखा हमला बोला है। चुनाव आयोग से इसकी शिकायत करते हुए पार्टी ने जांच की मांग की है। वहीं, संप्रग के सहयोगी दल नेशनल कांफ्रेंस के नेता और जम्मू-कश्मीर के मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने भी इस समय स्टिंग के सामने आने पर हैरानी जताई है। जबकि कांग्रेस का कहना है कि स्टिंग ने भाजपा और आरएसएस के सही चेहरे को उजागर कर दिया है।

Friday, April 4, 2014

सोनिया-बुखारी की मुलाकात लोमड़ी-भेड़‍िये की अहिंसा पर बात करने जैसा: शिवसेना

http://aajtak.intoday.in/story/maharashtra-udhav-says-sonia-bukhari-meet-like-fox-and-wolf-talking-non-violence-1-759899.html
धर्मनिरपेक्ष वोटों के बंटवारे को रोकने के लिए दिल्ली के जामा मस्जिद के शाही इमाम से मुलाकात करने पर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को आड़े हाथ लेते हुए शिवसेना ने कहा कि यह 'लोमड़ी और भेड़िये' के अहिंसा और शाकाहार पर बात करने के समान है.

Thursday, April 3, 2014

हिन्दुओं को अपमान सहने की आदत क्यों

http://www.punjabkesari.in/news/article-232630
(तरुण विजय) मुगल, ब्रिटिश और उसके बाद नेहरूवादी सैकुलर तंत्र ने इस देश में आग्रही हिन्दू बनना अपराध घोषित कर दिया था। देशभक्ति और मातृभूमि के प्रति समर्पण की चरम सीमा तक जाने वाले राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के स्वयंसेवकों को आज भी सरकारी नौकरी के योग्य नहीं माना जाता और इस बारे में केन्द्र तथा विभिन्न राज्य सरकारों ने अधिघोषणा जारी की हुई है, जो रद्द नहीं की गई। 15 अगस्त तथा 26 जनवरी के दिन लालकिले और जनपथ पर जो भव्य परेड तथा राष्ट्रीय ध्वज फहराने के कार्यक्रम होते हैं, उनमें अनेक भयानक आरोपों से घिरे मंत्री और राजनेता बुलाए जाते हैं। जिस मुस्लिम लीग ने भारत का विभाजन करवाया, उसके सदस्य और पदाधिकारी भी आमंत्रित किए जाते हैं और उनमें से एक तो केन्द्रीय मंत्रिमंडल के भी सदस्य बनाए गए।

लेकिन कभी विश्व के सबसे बड़े हिन्दू संगठन, जो भारत का महान देशभक्त संगठन है, उसे अधिकृत तौर पर न तो राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री के यहां चाय पर या राष्ट्रीय दिवसों के कार्यक्रमों में भारत शासन की ओर से अथवा राज्य सरकार की भी ओर से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के पदाधिकारी के नाते आमंत्रित किया जाता है। अब कुछ भाजपा की राज्य सरकारों ने यदि उन्हें बुलाया हो तो यह अलग बात है। हिन्दुत्व की विचारधारा से आप लाख असहमत हो सकते हैं लेकिन उस विचारधारा को मानने वालों को त्याज्य, अस्पृश्य, अनामंत्रित और सूचीविहीन वर्ग में रखना अलोकतांत्रिक और असंवैधानिक छुआछूत का उदाहरण है। भारत के 82,000 से ज्यादा समाचार पत्रों और पत्रिकाओं में सामान्यत: कांग्रेस, वामपंथी या सीधे-सीधे कहें तो उन लेखकों, पत्रकारों और सम्पादकों का प्रभुत्व है, जिनका एक ही मकसद है-हिन्दुत्व की विचारधारा का विरोध। महानगरों से छपने वाले तथाकथित राष्ट्रीय अंग्रेजी समाचार पत्रों तथा पत्रिकाओं में हर दिन जिन लोगों के स्तंभ और लेख छपते हैं, उनमें हिन्दुत्व अथवा भारत के आग्रही हिन्दू समाज की उस विचारधारा का संभवत: एक प्रतिशत भी प्रतिनिधित्व नहीं होता जो राष्ट्रीयता के उस प्रवाह को मानते हैं जिसे श्री अरविन्द और लाल-बाल-पाल की त्रयी ने परिभाषित किया था। 

देश में ऐसे सैंकड़ों आई.ए.एस., आई.एफ.एस. और आई.पी.एस. अधिकारी होंगे जो बालपन से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की विचारधारा को मानते हैं और उसे देश के लिए हितकारी समझते हैं लेकिन उनमें से एक भी सरकारी नौकरी में यह कहते हुए डरता है क्योंकि ऐसा घोषित करने पर उसके विरुद्ध तत्काल सरकारी कार्रवाई हो जाएगी। सरकार में कम्युनिस्ट पार्टी का समर्थक होने पर कोई दिक्कत नहीं है- जिस कम्युनिस्ट पार्टी के सदस्यों को पं. नेहरू की सरकार ने 1962 के युद्ध में चीन का साथ देने के अपराध में गिरफ्तार किया था जबकि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सदस्यों को 1962 में देश की सेवा और सैनिकों का साथ देने के कारण 1963 की गणतंत्र दिवस परेड में पूर्ण गणवेश में नेहरू सरकार ने शामिल किया था।

हिन्दुत्व समर्थक का परिचय मिलते ही कार्पोरेट जगत और सामाजिक क्षेत्र में एक भिन्न दृष्टि से देखे जाने का चलन कांग्रेस और वामपंथियों ने शुरू किया जिनके राज में हजारों सिख मारे गए, सबसे ज्यादा हिन्दू-मुस्लिम दंगे हुए, सबसे ज्यादा भ्रष्टाचार की घटनाएं हुईं, संविधान का उल्लंघन हुआ, आपातकाल लगा, व्यक्तिगत स्वतंत्रताएं समाप्त हुईं, देश पिछड़ गया, महिलाएं असुरक्षित हुईं और विदेशों में भारत की छवि खराब हुई, वे केवल मीडिया पर अपने प्रभुत्व एवं सरकारी तंत्र के दुरुपयोग से स्वयं को सैकुलर, शांतिप्रिय, संविधान के रक्षक और मुस्लिम हित ङ्क्षचतक के रूप में दिखाते रहे।

सलमान रुशदी की पुस्तक ‘सेटेनिक वर्सेज’ पर जो प्रतिबंध की वकालत करते रहे, वही हिन्दू धर्म पर लिखी वैंडी डॉनिगर की अपमानजनक पुस्तक को बेचने की वकालत करते रहे। हिन्दुओं पर आघात आघात नहीं लेकिन अहिन्दुओं पर ताना भी कसा गया और जिसकी सबने ङ्क्षनदा भी की हो तो भी वह प्राण लेने वाला गुनाह मान लिया जाता है। कश्मीर से पांच लाख हिन्दू आज भी बाहर हैं। भारत के किसी गांव से 5 गैर-हिन्दू भी यदि किसी भेदभाव के शिकार होकर निकाल दिए जाएं तो दुनिया भर में तब तक तूफान मचा रहेगा जब तक वे 500 सिपाहियों के संरक्षण में वापस नहीं लौटा दिए जाते। भारत की दर्जनों राजनीतिक पार्टियों के चुनाव घोषणा पत्र में वह एक पंक्ति को ही दिखा दें  जिसमें कहा गया हो कि अगर उस पार्टी की सरकार आएगी तो वह ससम्मान और ससुरक्षा कश्मीरी हिन्दुओं की घर वापसी घोषित करेगी। सिवाय भाजपा के और कौन कहता है? इसका कारण क्या है?

जो लोग फिलस्तीन के मुस्लिम दर्द पर बोलते हैं, इसराईल के विरुद्ध दिल्ली में प्रदर्शन करते हैं और बम फोड़ते हैं, जिन्हें इस्लामी मालदीव और चीन के सिंकियांग में मुस्लिम मोह पर चीनी कार्रवाई से दर्द होता है, वे अपने ही रक्तबंधु हिन्दुओं के पाकिस्तान और बंगलादेश में अमानुषिक उत्पीडऩ पर खामोश क्यों रहते हैं?

गत एक सप्ताह में पाकिस्तान में 2 हिन्दू मंदिर अपवित्र किए गए, मूर्ति जला दी गई और हिन्दुओं का अपमान किया गया। इसके विरोध में आपने कहीं कोई आवाज सुनी? अब इस समाचार में मंदिर की जगह मस्जिद लिखिए और फिर सोचिए कि अगर हमारे या हमारे मुल्क के आसपास कहीं गैर-मुस्लिमों ने मस्जिदों के साथ यही काम किया होता तो क्या नतीजा निकलता?

हिन्दुओं को अपना अपमान सहन करने, अपना दुख पीने और अपने ऊपर होने वाले आघात स्वाभाविक मानने की आदत क्यों हो गई है? क्यों आग्रही हिन्दू उस शासन में जो उनके राजस्व और वोट से चलता है, केवल इसलिए तिरस्कृत और सूचीविहीन किया जाना स्वीकार कर लेते हैं कि वे हिन्दुत्व समर्थक हैं? अस्पृश्यता और तिरस्कार का जितना भयानक दंश हिन्दुत्व समर्थकों ने झेला है, वैसा नाजियों के हाथों यहूदियों ने भी नहीं झेला होगा।  

Wednesday, April 2, 2014

महासमर.. श्राइन बिल का एजेंडा तय करेगा पंडितों का वोट

http://www.jagran.com/jammu-and-kashmir/jammu-11202826.html
जम्मू : दो दशकों से भी अधिक समय से विस्थापन में रह रहा कश्मीरी पंडित समुदाय कश्मीर में पुनर्वास व वापसी में देरी के लिए न सिर्फ राज्य व केंद्र सरकार को जिम्मेदार मान रहा है, बल्कि प्रमुख राजनीतिक दलों के प्रति भी उनके मन में गिला है। उन्होंने उनकी बेबसी से हमेशा ही पल्ला छुड़ाया है। वादी में सांस्कृतिक विरासत के संरक्षण के लिए संघर्ष कर रहे पंडितो को उन राजनीतिक दलों के प्रति भी मन में मलाल है, जिन्होंने मंदिरों व धार्मिक स्थलों के संरक्षण के लिए विधानसभा में लंबित कश्मीरी हिंदू श्राइन बिल को पारित न होने देने में अहम भूमिका निभाई थी।

Tuesday, April 1, 2014

पाकिस्तान में हिंदू आश्रम पर हमला

http://hindi.ruvr.ru/2014_04_01/270509228/

पाकिस्तान के सिंध प्रांत में करीब चार लोगों ने एक हिंदू आश्रम पर हमला कर दिया। सोमवार को एक मीडिया रिपोर्ट में कहा गया है कि इन लोगों ने आश्रम से त्रिशूल भी चोरी कर लिया। 


इस घटना के विरोध में लोगों ने प्रदर्शन किया और कुछ स्थानों पर कारोबारियों की आंशिक बंदी भी देखी गई। पाकिस्तान के सिंध प्रांत में करीब चार लोगों ने एक हिंदू आश्रम पर हमला कर दिया। सोमवार को एक मीडिया रिपोर्ट में कहा गया है कि इन लोगों ने आश्रम से त्रिशूल भी चोरी कर लिया। इस घटना के विरोध में लोगों ने प्रदर्शन किया और कुछ स्थानों पर कारोबारियों की आंशिक बंदी भी देखी गई।
और पढ़ें: http://hindi.ruvr.ru/2014_04_01/270509228/

Sunday, March 30, 2014

छप्पर डालने को लेकर आपस मे भिड़े दो समुदायों के लोग

http://hindi.pardaphash.com/news/--756971/756971.html
लखीमपुर-खीरी। उत्तर प्रदेश के लखीमपुर-खीरी जिले के निघासन थाना क्षेत्र के अंतर्गत एक धार्मिक स्थल पर छप्पर डालने को लेकर दो समुदाय के लोग आपस में भिड़ गए। विवाद की सूचना पर पहुंचे एसडीएम तथा सीओ ने दोनों समुदाय के लोगों को काफी समझाने का प्रयास किया, लेकिन वह नहीं माने। पुलिस ने दोनों पक्ष के करीब चालीस लोगों को पाबंद किया है। घटना को लेकर दोनों समुदायों में तनाव है। 

Saturday, March 29, 2014

पाकिस्तान में हिंदू मंदिर पर हमला

http://www.bbc.co.uk/hindi/international/2014/03/140328_attack_temple_pakistan_rns.shtml
शुक्रवार को पाकिस्तान के हैदराबाद के एक कारोबारी इलाक़े फ़तेह चौक के प्रसिद्ध हिंदू मंदिर में तीन नकाबपोशों ने हमला किया. इस इलाक़े के आसपास बड़ी तादाद में हिंदू रहते हैं.

Friday, March 28, 2014

राजनीतिक एजैंडे से बाहर हिंदू वेदना

http://www.punjabkesari.in/news/article-230703
(तरुण विजय) दो दिन पूर्व राज्यसभा टी.वी. पर एंकर महोदया ने आम पार्टी के प्रतिनिधि से पूछा कि वैसे तो आपके नेता अरविंद केजरीवाल सांप्रदायिकता से लडऩे की बातें करते हैं लेकिन वाराणसी पहुंचते ही उन्होंने गंगा स्नान किया और मंदिर में दर्शन किया। आप प्रतिनिधि बेचारे शब्द ढूंढने लगे कि क्या जवाब दें और यही कह पाए कि वे परिवार सहित काशी गए थे इसलिए गंगा स्नान किया। ‘इंटेलैक्चुअल माडर्निटी’ जैसे भारी-भरकम अंग्रेजी शब्द हिंदी कार्यक्रम में इस्तेमाल करते हुए उन एंकर बहन का एक ही प्रहार था कि अगर सांप्रदायिकता से लडऩा है तो फिर मंदिर जाने का क्या अर्थ है? मैंने उनसे पूछा कि क्या इंटेलैक्चुअल माडॢनटी का अर्थ सिर्फ हिंदुओं पर इस रूप में लागू होता है कि जब तक वे मंदिर जाएंगे तब तक सैक्युलर नहीं कहलाएंगे। क्या अन्य गैर-हिंदुओं से वह यह प्रश्र करने का साहस करपातीं?

अभी पिछले सप्ताह पेशावर में जेहादियों ने एक गुरुद्वारे पर हमला किया। एक सिख नागरिक, पेशावर के प्रसिद्ध वैद्य परमजीत सिंह की हत्या कर दी गई। वहां हड़ताल हुई, पूरे पाकिस्तान में उसका शोर उठा लेकिन हिंदुस्तान और उसकी राजधानी दिल्ली में सिर्फ चुनाव पसरा रहा। एक-दूसरे पर अभद्र भाषा में आरोप-प्रत्यारोप, मोहल्ले की भाषा राष्ट्रीय चुनाव चर्चा का माध्यम बनती रही लेकिन पाकिस्तान के हिंदुओं और सिखों पर आघात पर चार लोगों ने भी इंडिया गेट या चाणक्यपुरी में प्रदर्शन नहीं किया, न कोई बयान आया, न किसी नेता को यह कहने की जरूरत महसूस हुई कि पाकिस्तान में हर रोज होने वाली इन वारदातों पर रोक लगाने के लिए हम जनमत संगठित करेंगे। यह स्थिति तब हुई थी जब कुछ समय पहले बंगलादेश में जमाते-इस्लामी के तालिबानों ने सैंकड़ों हिंदुओं के घर जला दिए थे, महिलाओं पर अत्याचार किया था और फिर हिंदू शरणार्थियों की एक बाढ़ भारत की ओर मुड़ी थी।

तमिलनाडु के जिन मछुआरों को श्रीलंका सरकार द्वारा अवैध रूप से पकड़कर 2-2 महीने जेल में रखा जाता है, उनकी नौकाएं तथा जाल तोड़ दिए जाते हैं, वे लगभग सभी हिंदू होते हैं। उनके विषयमें सामान्यत: ऐसा मान लिया जाता है कि अगर किसीको बोलना भी है तो तमिलनाडु के नेताओं और संगठनों को बोलने दीजिए। हमारा उनसे क्या संबंध है?

एक समय था जब रामसेतु को लेकर पूरे देश में हजारों प्रदर्शन हुए और एक करोड़ से ज्यादा हस्ताक्षर राष्ट्रपति को सौंपे गए। पर अब न रामसेतु और न ही तमिलनाडु के हजारों मंदिरों को सरकारी नियंत्रण से मुक्त करने के सर्वोच्च न्यायालय में डा. सुब्रह्मण्यम स्वामी द्वारा दर्ज जनहित याचिका पर ऐतिहासिक फैसले को लेकर कोई राष्ट्रव्यापी विचार तरंग दौड़ती है। मेरठ में कुछ भटके हुए कश्मीरी लड़कों ने भारत-पाकिस्तान मैच के दौरान पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाए तो हर पार्टी के नेता बोले, मुख्यधारा के संपादकों ने संपादकीय लिखे, भाषण और सैमीनार हुए। 5 लाख कश्मीरी अभी भी शरणार्थी हैं, शंकराचार्य पहाड़ी को तख्ते सुलेमान और अनंतनाग को इस्लामाबाद लिखा जा रहा है। सरकारी वैबसाइट और पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग के नामपट्टों में ऐसे नामों का जिक्र होता है लेकिन यह राजनीतिक मुद्दा भी नहीं है, चुनाव घोषणा-पत्र या भाषण और सैमीनारों की तो बात ही छोड़ दीजिए।

भारत का एक मन भी है, उसका चैतन्य है, वह र्सिफ रोटी-कपड़ा और मकान पर जिंदा भौतिक काया मात्र ही नहीं है। इसीलिए श्री अरविंद ने भवानी-भारती की कल्पना सामने रखते हुए कहा था कि, ‘हमारे लिए भारत नदियों, पहाड़ों, मकानों, जंगलों और भीड़ का समुच्चय नहीं वरन् साक्षात जगत-जननी माता है।’ जैसे-जैसे राजनीति के छल और द्वंद्व में यह भाव तिरोहित होता गया और जहां तक राजनेताओं का वोट बैंक है, वहीं से भारतीय परंपराओं और हिंदुत्व की प्रखर एवं क्षमाबोध रहित आवाजें दबनी और दबाई जानी शुरू हो गईं। अगर केवल बिजली, पानी और सड़क का मामला लिया जाए तो यह हिंदुत्व की परम वैभव की कल्पना में स्वत: सन्निहित है।

जिस धर्म के अनुयायी जीवन में लक्ष्मी, दुर्गा और सरस्वती के बिना अपने भाव विश्व की कल्पना नहीं कर सकते, उनके बारे में यह कहना कि हिंदुत्व की बात छोड़कर सड़क, पानी, बिजली की बात करो क्योंकि हिंदुत्व का अर्थ है पिछड़ापन, सांप्रदायिकता, अल्पसंख्यक विरोध, बैलगाड़ी युग और प्रगतिशीलता का विरोध, तो यह सत्य से मुंह मोडऩा होगा। 

तालिबान और जेहाद केवल बंदूक और शारीरिक ङ्क्षहसा से ही नहीं होता। हिंदुओं के विरुद्ध शब्द हिंसा तथाकथित सैक्युलर मीडिया और जेहादी मानसिकता के तत्वों का एक बड़ा हथियार रहा है। वे कभी भी यह स्वीकार नहीं कर सकते कि लक्ष्मी, दुर्गा, सरस्वती की आराधना का अर्थ ही उद्योग, व्यापार, आर्थिक विकास, शिक्षा और प्रौद्योगिकी, वैज्ञानिक मानसिकता के साथ नित्य नूतन मानवहितवर्धक अन्वेषण तथा गवेषणाएं, सैन्य विकास, शत्रु को परास्त करने के लिए हर प्रकार की शक्ति का अर्जन और आत्मनिर्भरता है।

केवल घंटी बजाकर कर्मकांड करना हिंदू का स्वभाव नहीं है बल्कि वैदिक परम्पराओं और विरासत को समसामायिक संदर्भों में पुन: व्याख्यायित करते हुए धर्म पर छाने वाली काई, कीचड़, धूल को साफ करने के लिए पाखंड खंडिनी पताका का स्वागत हमने करके दिखाया है। एक ऐसे समय में जब विश्व की प्रबल शक्तियां भारत के पुनरोदय के विरुद्ध जी-जान से षड्यंत्रों में व्यस्त हैं उस समय हमें अपनी विरासत पर टेक बराबर जमाए रखनी होगी और आंतरिक झगड़ों तथा कोलाहल से दूर रहना होगा। यह समय बहस और तर्क-वितर्क का नहीं, चेहरे, नाम और पहचान पर सवाल जडऩे का नहीं, अपनी  विरासत और हिम्मत को बिसारने का नहीं। एक बड़ी हुंकार से विजय को थामना, यही अपने हिंदुत्व और नागरिकत्व को सार्थक करना है।
 

Thursday, March 27, 2014

गौसेवक को बंधक बनाकर पीटा, कई गाय लूटी

http://www.jagran.com/uttar-pradesh/shamli-city-11187861.html
कांधला : सशस्त्र बदमाशों ने गौसेवक को बंधक बनाकर मारपीट करते हुए गऊशाला से कई गाय लूटकर फरार हो गए। गाय लूटे जाने से हिंदू समुदाय के लोगों में रोष है। पीड़ित ने तहरीर देकर कार्रवाई की मांग की है। पुलिस बदमाशों की तलाश कर रही है।

Wednesday, March 26, 2014

रंग की जंग में बहा खून

http://www.bhaskar.com/article-hf/RAJ-BHIL-communal-riots-in-bhilwara-rajasthan-4560003-PHO.html
भीलवाड़ा.  शहर में एक युवक की समुदाय विशेष के युवकों द्वारा चाकू घोंपकर हत्या करने के बाद सोमवार दोपहर को तनाव फैल गया। आक्रोशित लोगों ने हमलावरों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर जिला अस्पताल में तोड़फोड़ की। एक एंबुलेंस में आग लगा दी। कई वाहनों के शीशे फोड़ दिए। उपद्रवियों ने छह स्थानों पर पथराव किया। हालात काबू में करने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज कर आंसू गैस के गोले छोड़े। स्थिति तनावपूर्ण पर नियंत्रण में बताई गई है। पुलिस ने दो जनों को गिरफ्तार कर लिया है।

Tuesday, March 25, 2014

सुरक्षा बलों की बड़ी सफलता

http://www.deshbandhu.co.in/newsdetail/1809/6/0
12 जुलाई 2011 को मुंबई के झवेरी बाजार बम विस्फोट समेत कई आतंकी गतिविधियों में वांछित आतंकवादी वकास की गिरफ्तारी देश की पुलिस व खुफिया जांच एजेंसियों की बड़ी सफलता मानी जाएगी। आईबी की सूचना पर दिल्ली एटीएस और जयपुर पुलिस ने संयुक्त कार्रवाई कर पाकिस्तानी नागरिक आतंकी वकास समेत चार आतंकवादियों को गिरफ्तार किया है। इस सफलता से दो बातें स्पष्ट हुई हैं कि हमारा खुफिया तंत्र, जिसे किसी भी आतंकी या नक्सली वारदात होने पर आड़े हाथों लिया जाता है कि वह ठीक से अपना काम नहींकर रहा, सतर्कता के साथ अपना दायित्व निर्वाह कर रहा है। दूसरा अगर विभिन्न राज्यों के पुलिस बल आपसी सहयोग से किसी मिशन पर लग जाएं तो फिर उसमें सफलता मिलने में देर नहींलगती।

Monday, March 24, 2014

कटान के लिए जा रहे दो गोवंश पकड़े

http://www.jagran.com/uttar-pradesh/bulandshahr-11180074.html
खुर्जा ,बुलंदशहर : गांव झमका के निकट हिंदू संगठन के कार्यकर्ताओं ने एक भार वाहन से कटान के लिए जा रहे दो गोवंशों को बरामद कर लिया। गोवंश को ले जा रहे किशोरों के साथ कार्यकर्ताओं ने मारपीट भी की। पुलिस ने दोनों किशोरों को हिरासत में लेकर मुख्य तस्करों की तलाश शुरू कर दी है।

Sunday, March 23, 2014

हिंदू धर्म में कट्टरता बनाम उदारवाद

http://www.prabhatkhabar.com/news/100374-story.html
भारतीय इतिहास की सबसे बड़ी लड़ाई, हिंदू धर्म में उदारवाद और कट्टरता की लड़ाई पिछले पांच हजार सालों से भी अधिक समय से चल रही है और उसका अंत अभी भी दिखायी नहीं पड़ता. ऐसा क्यों नहीं हो सका, इसका पता लगाने की कोशिश करने के पहले, जो बुनियादी दृष्टिभेद हमेशा रहा है, उस पर नजर डालनी जरूरी है. चार बड़े और ठोस सवालों, वर्ण, स्त्री, संपत्ति और सहनशीलता के बारे में हिंदू धर्म बराबर उदारवाद और कट्टरता का रुख बारी-बारी से लेता रहा है.
 

Saturday, March 22, 2014

बांग्लादेश में उपद्रवियों ने दो मंदिर जलाए

http://www.jagran.com/news/world-two-hindu-temples-set-ablaze-in-bangladesh-11175202.html
ढाका। बांग्लादेश में उपद्रवियों ने दो हिंदू मंदिरों में तोड़फोड़ के बाद आग लगा दी। इनमें एक मंदिर सौ साल पुराना है। आग लगाने वालों का पता नहीं चल सका है। स्थानीय मीडिया के अनुसार बागरहाट जिले में उपद्रवियों ने प्राचीन मंदिर में आगजनी से पहले वहां रखी मूर्तियां भी तोड़ दीं। पुजारी प्रदीप भट्टाचार्य ने बताया कि सुबह करीब साढ़े 8 बजे उन्होंने मंदिर से धुआं निकलते देखा और मदद के लिए गुहार लगाई। उन्होंने बताया कि उपद्रवियों ने दुर्गा, लक्ष्मी, सरस्वती, गणेश और कार्तिक समेत कई मूर्तियां क्षतिग्रस्त कर दी थीं। बागरहाट के एसपी मुहम्मद निजामुल हक मुल्ला के अनुसार हमलावरों को पकड़ने के लिए छापेमारी शुरू कर दी गई है।

Wednesday, March 19, 2014

कट्टरपंथियों ने सिंध में हिंदू मंदिर पर हमला किया, धर्मशाला जलाई

http://navbharattimes.indiatimes.com/world/pakistan/-----/articleshow/32128340.cms
पाकिस्तान के सिंध प्रांत में गुस्साए बहुसंख्यक समुदाय के लोगों ने एक हिंदू मंदिर पर हमला करके धर्मशाला को आग के हवाले कर दिया है। घटना लरकाना इलाके की है, जहां पर मानसिक रूप से अस्वस्थ एक हिंदू लड़के पर पवित्र कुरान के पन्नों को जलाने का आरोप लगा। जैसे ही यह खबर इलाके मे फैली, कई कट्टरपंथी मुस्लिम संगठनों के लोगों ने उस लड़के के घर को घेर लिया। कुछ लोगों ने पास के ही एक मंदिर पर हमला किया और धर्मशाला में आग लगा दी। फिलहाल पूरे इलाके में तनाव फैला हुआ है, मगर सोशल मीडिया पर पाकिस्तानी नागरिक इस घटना की कड़ी निंदा कर रहे हैं।

Saturday, March 15, 2014

भागवत ने कहा, भारत तब तक सुरक्षित है जब तक हिंदू समाज

http://www.prabhatkhabar.com/news/98408-story.html
रांची: भारत व भारतीयता तभी तक सुरक्षित है, जब तक हिंदू समाज व संस्कृति सुरक्षित है. इसी सुरक्षित व शुद्ध स्वरूप में वनों में रहने वाले 30 करोड़ वनवासियों को हमें जगाना है. हमें सबको जोड़ना है, हम सबको जोड़ेंगे. बिरसा मुंडा फुटबॉल स्टेडियम, मोरहाबादी में आयोजित एकल संगम में आरएसएस के सरसंघचालक मोहन भागवत ने ये बातें कहीं.

Friday, March 14, 2014

पुलिस ने धार्मिक स्थल को कब्जा मुक्त कराया

http://www.jagran.com/uttar-pradesh/amroha-city-11158094.html
अमरोहा। नौगावां सादात धार्मिक स्थल पर कब्जा करने के बाद गांव में तनाव बन गया। सूचना पाकर मौके पर पहुंची थाना पुलिस ने निर्माण कार्य ध्वस्त करा दिया है। आरोपी घर से भाग गया है। दूसरे संप्रदाय के लोगों ने जिलाधिकारी से शिकायत कर कार्रवाई की मांग की है।

Thursday, March 13, 2014

छेड़छाड़ के बाद दो संप्रदायों में बवाल

http://www.jagran.com/uttar-pradesh/amroha-city-11153524.html
अमरोहा। धार्मिक स्थल की तरफ जा रही युवती के साथ छेड़छाड़ के बाद दो संप्रदायों के लोगों में मारपीट व पथराव की घटना में छह लोग घायल हो गए। सांप्रदायिक तनाव की सूचना पर एएसपी ने सीओ व थाना पुलिस के साथ गांव में डेरा डाल दिया। घायलों का उपचार सरकारी अस्पताल में कराया गया। शाम तक घटना का मुकदमा दर्ज नहीं किया गया था।

Wednesday, March 12, 2014

प्रतिमा क्षतिग्रस्त करने को लेकर तनाव

बरियारपुर (मुंगेर), संवाद सूत्र : बरियारपुर थाना क्षेत्र के घोरघट गांव में असामाजिक तत्वों द्वारा कठगोला पुल के पास बजरंग बली की प्रतिमा को क्षति पहुंचा कर तनाव फैलाने की कोशिश की गई। इससे एक समुदाय में आक्रोश फैल गया। प्रशासन व दोनों पक्षों की सूझबूझ से सांप्रदायिक सौहा‌र्द्र बिगड़ने से बच गया। पुलिस ने दोनों पक्षों के बीच बंध पत्र भी भरवाया।

Sunday, March 9, 2014

आए थे घूमने, रास आया हिंदू धर्म

 http://www.jagran.com/uttar-pradesh/kanpur-city-11147923.html
कानपुर, जागरण संवाददाता: यूक्रेन के शिवास्तुगुल शहर में रहने वाली दो युवतियों व उनके एक मित्र ने विधिवत हिंदू धर्म अपना लिया। उन्होंने बीते वर्ष इलाहाबाद में आयोजित महाकुंभ में ही वैदिक मंत्र पढ़ना और उच्चारण करना शुरू कर दिया था पर शनिवार को उन्होंने उन्नाव स्थित एक विद्यालय में हिंदू धर्म की दीक्षा ली। दोपहर में उन्होंने परमट स्थित आनंदेश्वर मंदिर में भगवान शिव और गंगा मैया का अभिषेक भी किया।

Saturday, March 8, 2014

होलिका दहन देखने से दूर होते कष्ट

http://www.jagran.com/jharkhand/jamshedpur-11145267.html
जागरण संवाददाता, जमशेदपुर : मान्यता है कि होलिका दहन देखने और जलती हुई होलिका की परिक्रमा करने से साल भर के मनुष्य के सभी कष्ट दूर हो जाते हैं और ग्रह बाधाएं दूर हो जाती हैं। होलिका दहन बुराई पर अच्छाई की जीत, पाप पर पुण्य की विजय और नास्तिकता को नाश कर आस्तिकता पैदा करने का प्रतीक है।

Friday, March 7, 2014

दुर्ग में देवी-देवताओं पर आपत्तिजनक टिप्पणी ने बिगाड़े हालात

http://www.bhaskar.com/article/CHH-RAI-rampage-on-the-name-of-god-4542651-NOR.html
दुर्ग. फेसबुक पर देवी-देवताओं पर आपत्तिजनक टिप्पणी का विवाद सांप्रदायिक रूप लेते-लेते बच गया। ये विवाद बड़ा हो सकता था, अगर मुुस्लिमों समेत कुछ अन्य समुदाय के लोग सड़क पर आकर समझदारी न दिखाते। सांप्रदायिक सौहाद्र्र बरतने की अपील न करते। हालात बेहद तनाव भरे थे। दुर्ग बंद किया गया था। तोडफ़ोड़ की जा रही थी। कई जगह पत्थर फेंके जा रहे थे। नारेबाजी चल रही थी, लेकिन एक तबका शांति कायम करने में जुटा हुआ था।

पाकिस्तान से आई ट्रेन से 11 पिस्तौल व 22 कारतूस बरामद, आरोपी मुजफ्फरनगर के

http://www.bhaskar.com/article/PUN-AMR-11-pistols-22-magazines-recovered-by-samjhota-xpress-4542377-NOR.html
अटारी/अमृतसर. हथियार, जाली करंसी और नशीले पदार्थों की तस्करी के लिए पाकिस्तानी स्मगलर समझौता एक्सप्रेस का इस्तेमाल करने लगे हैं। गुरुवार को समझौता एक्सप्रेस से अटारी रेलवे स्टेशन पर पहुंचे छह यात्रियों से 11 पिस्तौल और 22 कारतूस बरामद की गईं हैं। इन्हें मीट मिक्सिंग मशीन के बीच छिपाकर रखा गया था। 

Thursday, March 6, 2014

हिंदू भगवान के लिए करते "नमो" का प्रयोग : पर्रिकर

http://www.patrika.com/news/namo-is-used-for-hindu-gods-parrikar/992574
पणजी। गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर ने विधायकों में "नमो" के जाप पर बहस छिड़ने के बाद बुधवार को राज्य विधानसभा को बताया कि हिंदू समुदाय नमो शब्द का प्रयोग ईश्वर के लिए करता है।

Wednesday, March 5, 2014

कश्मीरी हिंदू श्राइन बिल फिर ठंडे बस्ते में

http://www.jagran.com/jammu-and-kashmir/jammu-11138211.html
कश्मीरी हिंदुओं के मंदिरों व अन्य धार्मिक स्थलों के बेहतर प्रबंधन, संरक्षण, प्रशासन व शासन का बिल फिर ठंडे बस्ते में चला गया। राज्य विधानसभा में बिल के स्वरूप पर भाजपा, नेशनल पैंथर्स पार्टी, जम्मू स्टेट मोर्चा के अलावा कांग्रेस ने कड़ा विरोध जताया, जबकि पीडीपी बिल के समर्थन में थी। बिल को लेकर हाउस विभाजित दिखाई दिया और मतभेद उभरकर सामने आ गए। शोर-शराबा हुआ। आरोप-प्रत्यारोप लगे। इसे देखते हुए स्पीकर ने बिल को ज्वाइंट सलेक्ट कमेटी को भेज मामला ठंडे बस्ते में डाल दिया।